शुक्रवार, 20 फ़रवरी 2009

कविता की एक शाम

इन्दौर के वैज्ञानिक अनुसंधान केन्द्र राजा रामन्ना प्रगत प्रोद्योगिकी केन्द्र में १५-०२-२००९ को जनवादी लेखक संघ, प्रगतिशील लेखक संघ, केट स्टाफ क्लब और स्थानीय साहित्यिक व साँस्कृतिक संस्था भूमिका द्वारा एक काव्य संध्या का आयोजन किया गया। चर्चित युवा कवि प्रेमरंजन अनिमेष के इन्दौर आगमन के अवसर पर आयोजित इस काव्य संध्या में उनकी श्रेष्ठ कविताओं साथ इन्दौर के युवा कवियों देवेन्द्र रिणवा, प्रदीप कान्त, प्रदीप मिश्र, उत्पल बेनर्जी व आशुतोष दुबे व देवास के बहादुर पटेल की भी बेहतरीन कविताएँ सुनने को मिली। इन सबके साथ परिसर की मधु कान्त व यहाँ के वैज्ञानिकों अपर्णा चक्रवर्ती, राजीव खरे, आर के शर्मा व मनोरंजन प्रसाद सिंह ने भी कविता पाठ किया। चर्चित युवा कथाकार सत्यनारायण पटेल, विवेक गुप्ता व कवि विनीत तिवारी ने भी कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।



आशुतोश दुबे, उत्पल बेनर्जी व प्रेमरंजन अनिमेष कविता पाठ करते हुए

कुल मिला कर काव्य संध्या में युवा कवियों की श्रेष्ठ कविताएँ श्रोताओं के मन में उतर गई वहीं वैज्ञानिकों की काव्यात्मक अभिरूचि भी उनकी कविताओं के माध्यम से नज़र आई। कार्यक्रम के अन्त में प्रख्यात कवि सुदीप बेनर्जी को श्रद्धांजली अर्पित की गई। कार्यक्रम का संचालन प्रदीप मिश्र ने किया।


7 टिप्‍पणियां:

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

या हुसैन हम ना थे!!!!!!

Arun Aditya ने कहा…

हम यहीं से वाह-वाह कर रहे हैं।

भगीरथ ने कहा…

इस काव्य संध्या पर विभिन्न साहित्यिक संगठ्नो
एक मन्च पर आना अच्छा लगा।इस अनुकरणीय
प्रयास को विस्तार देने की आवश्यकता है

ravindra vyas ने कहा…

यार कम से कम एक सूचना तो दे देते कि इस तरह का कार्यक्रम है। हम भी आ जाते। आप मेरा नया मोबाइल नंबर भी नोट कर लें कृपया
9425910508

Udan Tashtari ने कहा…

बढ़िया रिपोर्ट प्रस्तुत करी. आभार.

बोधिसत्व ने कहा…

क्या बात है......असोक के शब्दों में या हुसैन हम न हुए ही कह सकता हूँ।

बोधिसत्व ने कहा…

अशोक पाण्डे जी माफ करें आपका नाम गलत छप गया