शनिवार, 14 नवंबर 2009

बाल दिवस पर बच्चों की खुशी के लिये…

गिन्नी
आज बच्चों के प्यारे चाचा नेहरू का जन्म दिवस यानि बाल दिवस है। बहुत दिनों से कक्षा चार में पढ़ती छोटी बेटी गिन्नी (प्रख्या) कह रही थी उसके कमप्यूटर पर बनाऐ चित्र कहीं भेजूँ और मैं ठहरा आलसी, टाले जा रहा था। आज लगा कि बाल दिवस पर उसके कुछ चित्र डाल ही दूँ। बच्ची भी खुश, पापा भी संतुष्ट और पाठक भी एक छोटी बच्ची की कल्पनाओं को महसूस कर पाऐंगे। यानि बाल दिवस पर बच्चे भी खुश और इस खुशी से बड़े भी प्रसन्न। ये सब उसने Adob Photoshop बनाई। मैंने उससे इन चित्रों के बारे में पूछा तो उसने मुझे कुछ कुछ बताया। जो समझ में आया उसे शीर्षक के तौर पर चित्रों के साथ लिख रहा हूँ। किन्तु बिना पूर्वाग्रह के आप उसकी इन कल्पनाओं से अलग सोच सकें तो मज़ा आए
____________________________________________________________________




Colorful stones


Valley of leaves


Butterflies

_____________________________________________________________________________________


11 टिप्‍पणियां:

बलराम अग्रवाल ने कहा…

बहुत ही प्यारे चित्र हैं। इन्हें मैं अपनी आगामी किसी पोस्ट पर लेने की अनुमति बिटिया से चाहूँगा।

vijay gaur/विजय गौड़ ने कहा…

क्या सच, ये चित्र गिन्नी नाम की इस नन्नी मुन्नी ने बनाए हैं !!!! अब तो हैकिंग सीखनी ही पढे़गी ताकि कम्प्यूटर पर सेव गिन्नी की फ़ाईल में से कुछ चित्र मैं भी चुरा सकूं। बताना नहीं प्रदीप भाई उसे।

प्रदीप कांत ने कहा…

बलराम जी/विजय भाई

मैने गिन्नी से पूच लिया है. उसका कहना उसी की ज़बानी -

अंकल, आप इनका उपयोग करेंगे तो मुझे खुशी होगी. मेरे पास और भी है तथा मै तो और भी चित्र कमप्यूटर पर बनाती रहती हूँ. और विजय अंकल, आपको चित्र चुराने की ज़रूरत नहीं. जब चाहिये मुझे बता देना, मै भेज दूंगी.


- गिन्नी

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही ख़ूबसूरत चित्र हैं। ख़ूब सारी बधाई। बिटिया से कहिये इसका निरन्तर अभ्यास ज़ारी रखे।

शुभकामनाओं सहित

रवि कुमार, रावतभाटा ने कहा…

खेलो गिन्नी बिटिया...
यह खेलना ही, भावी दक्षताओं को तय करता है...

दुनिया की हर चीज़ से खेलना सीखो...
इसी तरह छाती तान कर...

sandhyagupta ने कहा…

Jitni sundar bitiya hai chitr bhi utne hi pyare hain.

Pradeep Jilwane ने कहा…

मुझे गिन्‍नी में भविष्‍य का एक कलाकार दिखाई दे रहा है. मेरी शुभकामनाएं स्‍वीकारें.
- प्रदीप जिलवाने, खरगोन म.प्र.

KAVITA RAWAT ने कहा…

गिन्नी (प्रख्या) Ko shubhkanayen.
Bahut achha laga. Hamein bachhon ki khushi par sabse pahale dhyan jarur dena chahiye, Bachon ki ek muskarahat kitne dukh bhula deti hai....
Badhai

अजेय ने कहा…

बहुत सुन्दर चित्र! बिटिया को बहुत बहुत बधाई.

सुलभ सतरंगी ने कहा…

अतिसुन्दर...!!!

- सुलभ

kamal ने कहा…

wao, beta ginni,
dekh tumhari kalaakari
mai tau kha gaya chakarghinni
bus yahee dua hai kee
yah srijanashilata tumhari
rahe sada banee...


kamal uncle(uncle apake papa ke naheen),indore