रविवार, 5 अप्रैल 2009

उत्पल बैनर्जी की कविताएँ

२५ सितंबर, १९६७ को भोपाल में जन्म।

हिन्दी साहित्य में स्नात्कोत्तर उपाधि। ‘नज़रुल और निराला की क्रांतिचेतना’ पर लघु शोध-प्रबंध। मूलत: कवि।


पहला कविता-संग्रह ‘लोहा बहुत उदास है’ वर्ष २००० में सार्थक प्रकाशन, नई दिल्ली से प्रकाशित। विगत कई वर्षों से बँगला के महत्त्वपूर्ण साहित्य के हिन्दी अनुवाद में संलग्न। वर्ष २००४ में संवाद प्रकाशन मुंबई-मेरठ से अनूदित पुस्तक ‘समकालीन बंगला प्रेम कहानियाँ’, वर्ष २००५ में यहीं से ‘दंतकथा के राजा रानी’ (सुनील गंगोपाध्याय की प्रतिनिधि कहानियाँ), ‘मैंने अभी-अभी सपनों के बीज बोए थे’ (स्व. सुकान्त भट्टाचार्य की श्रेष्ठ कविताएँ) तथा ‘सुकान्त कथा’ (महान कवि सुकान्त भट्टाचार्य की जीवनी) के अनुवाद पुस्तकाकार रूप में प्रकाशित। वर्ष २००७ में भारतीय ज्ञानपीठ नई दिल्ली से ‘झूमरा बीबी का मेला’ (रमापद चौधुरी की प्रतिनिधि कहानियों का हिन्दी अनुवाद) तथा द्रोणाचार्य के जीवनचरित पर आधारित पुस्तक ‘द्रोणाचार्य’ का रे-माधव पब्लिकेशंस, गाज़ियाबाद से प्रकाशन। अनुवाद की तीन पुस्तकें प्रकाशनाधीन।


देश की लगभग सभी महत्त्वपूर्ण पत्रिकाओं तथा समाचार-पत्रों में कविताओं तथा अनुवादों का प्रकाशन। कविताओं का आकाशवाणी तथा दूरदर्शन से प्रसारण। वर्ष २००५ में दिल्ली में आयोजित सर्वभाषा कवि-सम्मेलन में बँगला कविता के हिन्दी अनुवादक के रूप में दिल्ली आकाशवाणी केंद्र द्वारा आमंत्रित।


संगीत तथा रूपंकर कलाओं में गहरी दिलचस्पी। मन्नू भण्डारी की कहानी पर आधारित टेलीफ़िल्म 'दो कलाकार` में अभिनय। कई डॉक्यूमेंट्री फ़िल्मों के निर्माण में भिन्न-भिन्न रूपों में सहयोगी। आकाशवाणी तथा दूरदर्शन केंद्रों द्वारा निर्मित डॉक्यूमेंट्रियों कें लिए आलेख लेखन। 'प्रगतिशील लेखक संघ` इन्दौर के सदस्य तथा भूतपूर्व सचिव। 'इप्टा` के सदस्य।


नॉर्थ कैरोलाइना स्थित अमेरिकन बायोग्राफ़िकल इंस्टीट्यूट के सलाहकार मण्डल के मानद सदस्य तथा रिसर्च फ़ैलो। बाल-साहित्य के प्रोत्साहन के उद्देश्य से सक्रिय ‘वात्सल्य फ़ाउण्डेशन’ नई दिल्ली की पुरस्कार समिति के निर्णायक मण्डल के सदस्य।


सम्प्रति -

डेली कॉलेज, इन्दौर, मध्यप्रदेश में हिन्दी अध्यापन।

पता - बंगला नं. १०, डेली कॉलेज कैम्पस, इन्दौर - ४५२ ००१, मध्यप्रदेश।

दूरभाष- 0731 2700902 / मोबाइल फ़ोन - 94259 62072


हिन्दी कविता में उत्पल बेनर्जी एक महत्वपूर्ण नाम है। तत्सम में इस बार उत्पल बेनर्जी की कुछ कविताएँ…।

उत्पल की कविता में कहीं दंगों पर एक कवि की खोखली चिंता नज़र आती है। वे कविता लिखते हैं घर पर किन्तु उसमें चिंता बेघरों की होती है। बीज की तरह अपने भीतर रचने का उत्सव लिये ये कविताएँ कहीं न कहीं हमें जीने का सम्बल देती हैं। आपकी गम्भीर टिप्पणियों की प्रतीक्षा रहेगी।

- प्रदीप कान्त


1

हमें दंगों पर कविता लिखनी है


जब नींद के निचाट अँधेरे में

सेंध लगा रहे थे सपने

और बच्चों की हँसी से गुदगुदा उठी थी

मन की देह,

हम जाने किन षड़यंत्रों की ओट में बैठे

मंत्रणा करते रहे!


व्यंजना के लुब्ध पथ पर

क्रियापदों के झुण्ड और धूल भरे रूपकों से बचते

जब उभर रहे थे दीप्त विचार

तब हम कविता के गेस्ट-हाउस में

पान-पात्र पर भिनभिनाती मक्खियाँ उड़ा रहे थे!


जब मशालें लेकर चलने का वक्त़ आया

वक्त़ आया रास्ता तय करने का

जब लपटों और धुएँ से भर गए रास्ते

हमने कहा -- हमें घर जाने दो

हमें दंगों पर कविता लिखनी है!


2

हममें बहुत कुछ


हममें बहुत कुछ एक-सा

और अलग था .....


वन्यपथ पर ठिठक कर

अचानक तुम कह सकती थीं

यह गन्ध वनचम्पा की है

और वह दूधमोगरा की,

ऐसा कहते तुम्हारी आवाज़ में उतर आती थी

वासन्ती आग में लिपटी

मौलसिरी की मीठी मादकता,

सागर की कोख में पलते शैवाल

और गहरे उल्लास में कसमसाते

संतरों का सौम्य उत्ताप

तुम्हें बाढ़ में डूबे गाँवों के अंधकार में खिले

लालटेन-फूलों की याद दिलाता था

जिनमें कभी हार नहीं मानने वाले हौसलों की इबारत

चमक रही होती थी।


मुझे फूल और चिड़ियों के नाम याद नहीं रहते थे

और न ही उनकी पहचान

लेकिन मैं पहचानता था रंगों की चालाकियाँ

खंजड़ी की ओट में तलवार पर दी जा रही धार की

महीन और निर्मम आवाज़ मुझे सुनाई दे जाती थी

रहस्यमय मुस्कानों के पीछे उठतीं

आग की ऊँची लपटों में झुलस उठता था

मेरा चौकन्नापन

और हलकान होती सम्वेदना का सम्भावित शव

अगोचर में सजता दिखता था मूक चिता पर।


तुम्हें पसन्द थी चैती और भटियाली

मुझे नज़रुल के अग्नि-गीत

तुम्हें खींचती थी मधुबनी की छवि-कविता

मुझे डाली(1) का विक्षोभ

रात की देह पर बिखरे हिमशीतल नक्षत्रों की नीलिमा

चमक उठती थी तुम्हारी आँखों के निर्जन में

जहाँ धरती नई साड़ी पहन रही होती थी

और मैं कन्दराओं में छिपे दुश्मनों की आहटों का

अनुमान किया करता था।


हममें बहुत कुछ एक-सा

और अलग था .....


एक थी हमारी धड़कनें

सपनों के इंद्रधनुष का सबसे उजला रंग ..... एक था।

अकसर एक-सी परछाइयाँ थीं मौत की

घुटनों और कंधों में धँसी गोलियों के निशान एक-से थे

एक-से आँसू, एक-सी निरन्तरता थी

भूख और प्यास की,

जिन मुद्दों पर हमने चुना था यह जीवन

उनमें आज भी कोई दो-राय नहीं थी।


-------

(1) डाली - विश्वप्रसिद्ध चित्रकार सल्वाडोर डाली


3

घर


मैं अपनी कविता में लिखता हूँ ‘घर’

और मुझे अपना घर याद ही नहीं आता

याद नहीं आती उसकी मेहराबें

आले और झरोखे

क्या यह बे-दरो-दीवार का घर है!


बहुत याद करता हूँ तो

टिहरी हरसूद याद आते हैं

याद आती हैं उनकी विवश आँखें

मौत के आतंक से पथराई

हिचकोले खाते छोटे-छोटे घर ..... बच्चों-जैसे,

समूचे आसमान को घेरता

बाज़ नज़र आता है ... रह-रह कर नाखूऩ तेज़ करता हुआ

सपनों को रौंदते टैंक धूल उड़ाते निकल जाते हैं

कहाँ से उठ रही है यह रुलाई

ये जले हुए घरों के ठूँठ .... यह कौन-सी जगह है

किनके रक्त से भीगी ध्वजा

अपनी बर्बरता में लहरा रही है .... बेख़ौफ़

ये बेनाम घर क्या अफग़ानिस्तान हैं

यरुशलम, सोमालिया, क्यूबा

इराक हैं ये घर, चिली कम्बोडिया...!!

साबरमती में ये किनके कटे हाथ

उभर आए हैं .... बुला रहे हैं इशारे से

क्या इन्हें भी अपने घरों की तलाश है?


मैं कविता में लिखता हूँ 'घर`

तो बेघरों का समुद्र उमड़ आता है

बढ़ती चली आती हैं असंख्य मशालें

क़दमों की धूल में खो गए

मॉन्यूमेण्ट, आकाश चूमते दंभ के प्रतीक

बदरंग और बेमक़सद दिखाई देते हैं।


जब सूख जाता है आँसुओं का सैलाब

तो पलकों के नीचे कई-कई सैलाब घुमड़ आते हैं

जलती आँखों का ताप बेचैन कर रहा है

विस्फोट की तरह सुनाई दे रहे हैं

खुरदुरी आवाज़ों के गीत


मेरा घर क्या इन्हीं के आसपास है!


4

प्रार्थना


हे ईश्वर!

हम शुद्ध मन और पवित्र आत्मा से प्रार्थना करते हैं

तू हमें हुनर दे कि हम

अपने प्रभुओं को प्रसन्न रख सकें

और हमें उनकी करुणा का प्रसाद मिलता रहे,

भीतर-बाहर हम जाने कितने ही शत्रुओं से घिरे हुए हैं

प्रभु के विरोध में बोलने वाले नीचों से

हमारे वैभव की रक्षा कर,

हमें धन और इन्हें पेट की आग दे

ज़मीन की सतह से बहुत-बहुत नीचे

पाताल में धकेल दे इन्हें,

कमज़ोर कर दे इनकी नज़रें

छीन ले इनके सपने और विचार

हमारे प्रभु को दीर्घायु कर

दीर्घायु कर उनकी व्यवस्था,

हम तेरी स्तुति करते हैं

तू हमें समुद्रों के उस पार ले चल

भोग के साम्राज्य में

हम भी चख सकें निषिद्ध फलों के स्वाद।


हे ईश्वर!

हम तेरी पूजा करते हैं

तू हमारे भरे-पूरे संसार को सुरक्षा दे

हमारे कोमल मन को

भूखे-नंगों की काली परछाइयों से दूर रख,

दूर रख हमारी कला-वीथिकाओं को

हाहाकार और सिसकियों से

आम आदमी के पसीने की बदबू से दूर रख

संगीत सभाओं को।


हम तुझे अर्घ्य चढ़ाते हैं

तू हमें कवि बना दे,

इन्द्रप्रस्थ का स्वप्न देखते हैं हम

तू हमें चक्रव्यूह भेदने के गुर समझा,

तू अमीर को और अमीर

गऱीब को और गऱीब बना

दलित को बना और भी ज्य़ादा दलित

तू हमें कुबेर के ऐश्वर्य से सम्पन्न कर


हम तेरी पूजा करते हैं ....


5

जिएँगे इस तरह


हमने ऐसा ही चाहा था

कि हम जिएँगे अपनी तरह से

और कभी नहीं कहेंगे -- मजबूरी थी,


हम रहेंगे गौरैयों की तरह अलमस्त

अपने छोटे-से घर को

कभी ईंट-पत्थरों का नहीं मानेंगे

उसमें हमारे स्पन्दनों का कोलाहल होगा,

दु:ख-सुख इस तरह आया-जाया करेंगे

जैसे पतझर आता है, बारिश आती है

कड़ी धूप में दह्केंगे हम पलाश की तरह

तो कभी प्रेम में पगे बह चलेंगे सुदूर नक्षत्रों के उजास में।


हम रहेंगे बीज की तरह

अपने भीतर रचने का उत्सव लिए

निदाघ में तपेंगे.... ठिठुरेंगे पूस में

अंधड़ हमें उड़ा ले जाएँगे सुदूर अनजानी जगहों पर

जहाँ भी गिरेंगे वहीं उसी मिट्टी की मधुरिमा में खोलेंगे आँखें।,

हारें या जीतें -- हम मुक़ाबला करेंगे समय के थपेड़ों का

उम्र की तपिश में झुलस जाएगा रंग-रूप

लेकिन नहीं बदलेगा हमारे आँसुओं का स्वाद

नेह का रंग .... वैसी ही उमंग हथेलियों की गर्माहट में

आँखों में चंचल धूप की मुस्कराहट ....

कि मानो कहीं कोई अवसाद नहीं

हाहाकार नहीं, रुदन नहीं अधूरी कामनाओं का।


तुम्हें याद होगा

हेमन्त की एक रात प्रतिपदा की चंद्रिमा में

हमने निश्चय किया था --

अपनी अंतिम साँस तक इस तरह जिएँगे हम

कि मानो हमारे जीवन में मृत्यु है ही नहीं!!


6

निर्वासन


अपनी ही आग में झुलसती है कविता

अपने ही आँसुओं में डूबते हैं शब्द।


जिन दोस्तों ने

साथ जीने-मरने की क़समें खाई थीं

एक दिन वे ही हो जाते हैं लापता

और फिर कभी नहीं लौटते,

धीरे-धीरे धूसर और अपाठ्य हो जाती हैं

उनकी अनगढ़ कविताएँ और दु:ख,

उनके चेहरे भी ठीक-ठीक याद नहीं रहते।


अँधेरा बढ़ता ही जाता है

स्याह पड़ते जाते हैं उजाले के मानक,

जगर-मगर पृथ्वी के ठीक पीछे

भूख की काली परछाई अपने थके पंख फड़फड़ाती है,

ताउम्र हौसलों की बात करने वाले

एक दिन आकंठ डूबे मिलते हैं समझौतों के दलदल में,

पुराने पलस्तर की मानिन्द भरभराकर ढह जाता है भरोसा

चालाक कवि अकेले में मुट्ठियाँ लहराते हैं।


प्रतीक्षा के अवसाद में डूबा कोई प्राचीन राग

एक दिन चुपके से बिला जाता है विस्मृति के गहराई में,

उपेक्षित लहूलुहान शब्द शब्दकोशों की बंद कोठरियों में

ले लेते हैं समाधि,

शताब्दियों पुरानी सभ्यता को अपने आग़ोश में लेकर

मर जाता है बाँध,

जीवन और आग के उजले बिम्ब रह-रह कर दम तोड़ देते हैं।

धीरे-धीरे मिटती जाती हैं मंगल-ध्वनियाँ


पवित्रता की ओट से उठती है झुलसी हुई देहों की गन्ध,

नापाक इरादे शीर्ष पर जा बैठते हैं,

मीठे ज़हर की तरह फैलता जाता है बाज़ार

और हुनर को सफ़े से बाहर कर देता है,

दलाल पथ में बदलती जाती हैं गलियाँ

सपनों में कलदार खनकते हैं,

अपने ही घर में अपना निर्वासन देखती हैं किसान-आँखें

उनकी आत्महत्याएँ कहीं भी दर्ज़ नहीं होतीं।


अकेलापन समय की पहचान बनता जाता है

दुत्कार दी गई किंवदंतियाँ राजपथ पर लगाती हैं गुहार

वंचना से धकिया देने में खुलते जाते हैं उन्नति के रास्ते

रात में खिन्न मन से बड़बड़ाती हैं कविताएँ

नि:संग रात करवट बदल कर सो जाती है!!


7 टिप्‍पणियां:

भगीरथ ने कहा…

नेट पर इतनी गम्भीर कविताएं शायद ही पदने
को मिले।सभी कविताओं में पाठ्क को झकझोरने
की क्षमता है।मैने कविताओं के प्रिन्ट लेकर
रख लिये है।इस उत्तम पोस्ट के लिये आपको
और उत्पल को बधाई

Bahadur Patel ने कहा…

vah! prdeep bhai bahut achchha kam kiya aapane.
utpal bhai ka prichay aur unaki kavitayen bahut achchhe se post ki .
dhanywaad.

बलराम अग्रवाल ने कहा…

उत्पल की कविताएँ विचारों को जन्म देती हैं। ऐसे रचनाकार को ढूँढ निकालना भी कम स्तरीय नहीं है। दोनों को बधाई।

Babli ने कहा…

मुझे आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा ! आप बहुत ही सुन्दर लिखते है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !

kamal ने कहा…

utpal ki rachnayein wakai bahut acchi or sargarbhit hain enamein ek taraf bhasai gambhirata hai tau dusari taraf ek kavi ka samajik sarokaar saaf dikhalai padata hai.
En rachnaoun ko apane Blog ke madhyam se hum tak pahunchaane ke lie bhai Pradeep sadhudad ke patra hain.
P.kamal ,Indor

sandhyagupta ने कहा…

Saari hi kavitayen achchi hain.In kavitaon ko prastut karne ke liye aabhar.

सुधीर साहु ने कहा…

उत्‍पल की कविताओं में मानवीय चिंताओं के वैश्विक स्‍वरूप के दर्शन होते हैं। इन चिंताओं से उपजे गहरे अवसाद से मुक्‍त होने की छटपटाहट में वे अक्‍सर व्‍यंग्‍य का सहारा लेते हैं, जो उनकी अनुभूतियों की धार को और पैना बना देता है।
बधाई।

सुधीर साहु